ब्वॉयज लॉकर रूम मामले में 9 और लड़कों से हुई पूछताछ

0
213

नारद डेस्‍क। ब्वॉयज लॉकर रूम में मामले की जांच में जुटी साइबर सेल ने ग्रुप के शुक्रवार को भी 9 छात्रों से लंबी पूछताछ की। पूछताछ के दायरे में आने वाले सभी छात्र दिल्ली और नोएडा के नामी स्कूलों में पढ़ने वाले हैं। साइबर सेल ने इन्हें अपने कार्यालय में बुलाकर पूछताछ की। उधर इंस्टाग्राम से भी पुलिस को ग्रुप ने उन छात्रों के बारे में भी कुछ जानकारी मिली है, जिसके आधार पर पुलिस छापेमारी की कार्रवाई कर रही है। इस मामले में अबतक ग्रुप एडमिन को गिरफ्तार किया गया है, जबकि एक नाबालिग को भी पुलिस ने दबोचा है।

इंस्टा से मिली जानकारी पर पूछताछ

उधर ग्रुप एडमिन से पूछताछ के बाद भी ब्वॉयज लॉकर रूम के जिन छात्रों का ब्यौरा हासिल नहीं हो पाया था। उनके बारे में इंस्टाग्राम से और तकनीकी आधार पर जो जानकारी हासिल की गई है, उसके आधार पर भी कुछ छात्रों को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। इसमें से गुरुवार को जिन छह छात्रों को बुलाया गया था, उनमें से दो अन्य को दोबारा बुलाया गया था, जबकि सात नए लोगों को जांच के दायरे में रखा गया था। यह पूछे जाने पर कि क्या कुछ और बालिग छात्रों को गिरफ्तारी होगी तो इसके जवाब में जांच से जुड़े साइबर सेल के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि साक्ष्य एकत्र किए जा रहे हैं। उसके आधार जो भी दोषी पाएगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ग्रुप के तीन साइलेंट मेंबर ने मांगी माफी

वहीं बवॉयज लॉकर रूम ग्रुप के कुल 27 में सदस्यो में से तीन साइलेंट मेंबर ने कहा कि उन्होंने ग्रुप में कोई अभद्र टिप्पणी नहीं है। वे चैट का हिस्सा नहीं रहे। इसलिए उन्हें माफ कर दिया जाए। इतना ही नहीं इन तीन नाबालिग सदस्यों ने ग्रुप का हिस्सा होने पर भी अफसोस जताते हुए जिन जानकार छात्राओं पर अश्लील कमेट किए गए थे, उनसे भी माफी मांग रहे हैं। उधर साइबर सेल इनकी भूमिका की बारीकी से जांच कर रही है और यह पता लगाने का प्रयास कर रही है कि इन्होंने क्या सचमुच कोई चैट नहीं किया है या फिर झूठ बोल रहे हैं। इसके लिए पुलिस ने जहां कुछ सदस्यों के मोबाइल फोन को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा है। वहीं ग्रुप के चैट को रिकवर करने में भी जुटी हुई है, ताकि सभी सदस्यों की भूमिका की जांच हो सके।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें