भाजपा नेता ने फेसबुक पर डाली भड़काऊ पोस्ट

0
339

नारद डेस्क। कोरोना महामारी से आज भारत ही नहीं पूरा विश्व जूझ रहा है। ऐसे में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कोरोना वायरस की आड़ में अपनी राजनीति चमकाने में लगे हैं। ऐसी ही खबर आज हमारे हाथ भी लगी है।

हमारी रिसर्च टीम ने आज पाया कि मीना भंडारी नामक महिला जो इंदिरापुरम, गाज़ियाबाद से बीजेपी की पार्षद हैं, उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्ट किया है। इस पोस्ट के मुताबिक उन्होंने लिखा कि “आज डॉ वंदना तिवारी की मृत्यु हो गई। वह पिछले हफ्ते ही एमपी के एक गांव में कोरोना टेस्ट के लिए गई थी, पर जिहादियों ने उन पर हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया था। आज उनकी मृत्यु हो गई। श्रद्धांजलि, आखिर कब तक? मैं शासक प्रशासन से इनके हत्यारों को कठोर से कठोर सजा दिलाने की मांग करती हूं”।

इस पोस्ट के साथ मीना भंडारी ने एक महिला पुलिस व मरीज की फ़ोटो भी पोस्ट की है। इस पोस्ट के साथ ही बहुत से लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी हैं और ऐसे लोगों (जिहादियों) को गोली मारने जैसी बातें भी लिखीं है।

कैसे हुई थी डॉ वंदना तिवारी की मौत
शिवपुरी मेडीकल कॉलेज में पदस्थ फार्मासिस्टव गर्ल्स हॉस्टल की केयर टेकर वंदना तिवारी की बीते मंगलवार को ग्वालियर में उपचार के दौरान मौत हो गई थी, उन्हें ब्रेन हेम्ब्रेज हुआ था और वे 1 अप्रैल से ग्वालियर के बिड़ला हॉस्पीटल में उपचारार्थ भर्ती थीं।

मेडीकल कॉलेज शिवपुरी के अधीक्षक केवी वर्मा ने बताया था कि वंदना तिवारी गर्ल्स हॉस्टल की केयर टेकर होने के साथ ही मेडीकल कॉलेज में फार्मासिस्ट थीं। उन्हें बीते 31 मार्च की रात को ब्रेन हेम्बे्रज हुआ था, जिसके चलते उन्हें ग्वालियर रैफर कर दिया था। ग्वालियर के बिड़ला हॉस्पीटल में भर्ती वंदना तिवारी दो दिन से कोमा में थी और उसी स्थिति में उनका निधन हो गया। मेडीकल कॉलेज अधीक्षक वर्मा का कहना था कि वंदना तिवारी की जिला अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में कभी ड्यूटी नहीं लगाई गई। वहीं कोरोना विंग के नोडल अधिकारी डॉ. दिनेश राजपूत का भी कहना है कि वंदना तिवारी की कभी हमारे आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी नहीं लगाई गई।

ऐसे में सवाल यह है कि एक महिला नेता ने यह झूठी खबर आखिर क्यों पोस्ट की? जबकि यह पोस्ट भारत में हिन्दू, मुस्लिम के झगड़े करवाने के लिए काफी है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें